Categories
आलिम सर की हिंदी क्लास शब्द पहेली

27. क्या आपने वाल्मीकि रामायण पढ़ा है…पढ़ी है?

मैंने वाल्मीकि रामायण पढ़ा है। क्या आपको पिछले वाक्य में कोई ग़लती नज़र आ रही है? आप शायद कहें कि हाँ, ‘पढ़ा’ है नहीं, ‘पढ़ी’ है होना चाहिए था, क्योंकि रामायण स्त्रीलिंग है। मान लेते हैं। फिर रामचरितमानस क्या है? क्या वह भी स्त्रीलिंग है? जानने के लिए आगे पढ़ें।

‘रामायण’ पुल्लिंग है या स्त्रीलिंग, जब इस विषय में फ़ेसबुक पर एक पोल किया गया तो दो-तिहाई से ज़्यादा (69%) ने स्त्रीलिंग पर वोट किया जबकि एक-तिहाई से कुछ कम (31%)ने पुल्लिंग पर। नीचे कुछ लोगों ने क़ॉमेंट में अपने निर्णय के पीछे के कारण भी लिखे। एक ने लिखा – ग्रंथ है सो पुल्लिंग है; दूसरे ने कहा, कथा है सो स्त्रीलिंग होना चाहिए। एक और सज्जन की टिप्पणी थी – महाकाव्य है सो पुल्लिंग होना चाहिए।

लेकिन समस्या यह है किसी भी रचना को एक व्यक्ति पुस्तक (स्त्रीलिंग) कह सकता है और दूसरा ग्रंथ (पुल्लिंग), कोई महाकाव्य (पुल्लिंग) तो कोई महागाथा (स्त्रीलिंग)। इसलिए यदि इस आधार पर किसी रचना का लिंग तय किया जाएगा तो हर व्यक्ति उसे अलग-अलग तरीक़े से बोलने के लिए स्वतंत्र होगा।

फिर उपाय क्या है? मैंने शब्दकोशों का सहारा लिया। लेकिन मज़े की बात कि वे भी इस मामले में बँटे हुए हैं। नागरी प्रचारिणी सभा का शब्दसागर इसे पुल्लिंग बताता है जबकि ज्ञानमंडल का शब्दकोश इसे स्त्रीलिंग मानता है (देखें चित्र)।

अब ऐसे में क्या किया जाए? मैंने सोचा, शब्द संस्कृत से आया है सो वहीं से पता लगाया जाए। लेकिन वहाँ भी रास्ता बंद मिला। भाषामित्र योगेंद्रनाथ मिश्र ने जानकारी दी कि संस्कृत में रामायण नपुंसक लिंग है। हिंदी में नपुंसक लिंग नहीं होता सो हिंदी में यह प्रश्न बना ही रह गया कि रामायण को स्त्रीलिंग मानें या पुल्लिंग।

फिर मैं कामताप्रसाद गुरु की शरण में गया यह सोचकर कि शायद उन्होंने ग्रंथों के लिंगनिर्णय के बारे में कोई रास्ता सुझाया हो। लेकिन वहाँ भी ऐसा कुछ नहीं मिला।

इसके बाद मैंने धर्मग्रंथों और स्मृतियों की एक सूची बनाई और उनके नामों के आधार पर कोई पैटर्न खोजने की कोशिश की ताकि उनके लिंगनिर्णय का कोई नियम बनाया जा सके। मैंने पाया कि रामायण, महाभारत, रामचरितमानस, त्रिपिटक, वेद, उपनिषद, पुराण – ये सब अकारांत हैं और पुल्लिंग भी जबकि भग्वद्गीता व मनुस्मृति आकारांत/इकारांत हैं और स्त्रीलिंग हैं। विदेशी ग्रंथों जैसे क़ुरआन और बाइबल को भी जब इस सूची में शामिल किया तो पाया कि क़ुरआन भी पुल्लिंग बोला जाता है लेकिन बाइबल, जो शब्दकोश के हिसाब से स्त्रीलिंग है, अपवाद निकला। मगर चूँकि ऊपर चुने गए 11 में से 10 ग्रंथों में यह नियम फ़िट बैठ रहा है, इसलिए बाइबल को अपवाद माना जा सकता है।

यदि हम इस नियम को मान लें तो अधिकतर ग्रंथों का लिंगनिर्णय उनके शीर्षकों के आधार पर कर सकते हैं। नियम बस यह याद रखना है कि आकारांत और ईकारांत शीर्षक वाले ग्रंथ स्त्रीलिंग और बाक़ी पुल्लिंग। इसके आधार पर ‘पृश्वीराज रासो’ और ‘पद्मावत’ पुल्लिंग (मैंने ‘पृथ्वीराज रासो’/‘पद्मावत’ नहीं पढ़ा है) जबकि ‘गीतावली’ और ‘अंधेर नगरी’ स्त्रीलिंग (क्या आपने तुलसी/भारतेंदु की गीतावली/अंधेर नगरी पढ़ी है?)

कुछ शीर्षक तो अपने नाम में आए शब्द के लिंग से ही शीर्षक का लिंग तय करवा देते हैं। जैसे ‘अंधेर नगरी’ में आई नगरी। चूँकि ‘नगरी’ स्त्रीलिंग है सो ‘अंधेर नगरी’ शीर्षक भी स्त्रीलिंग ही होगा। इसी तरह प्रेमचंद की ‘निर्मला’ है। चूँकि निर्मला स्त्रीलिंग है सो पुस्तक का शीर्षक भी स्त्रीलिंग ही बोला जाएगा – प्रेमचंद की ‘निर्मला’।

‘निर्मला’ से मुझे अपनी किशोरावस्था का एक प्रसंग याद आ गया। तब मैं कोलकाता के एक को-एड स्कूल में पढ़ता था। शुरू से ही मुझे साहित्य में बहुत रुचि थी और लाइब्ररी से हालाँकि सप्ताह में एक ही किताब इशू होती थी, मगर मैं अपने सहपाठियों के साथ किताबें बाँटकर हर हफ़्ते एक से ज़्यादा किताबें पढ़ लिया करता था। ऐसी ही एक किताब का नाम था ‘बेगम’ जो कि पढ़ने के बाद मैंने अपनी एक सहपाठिन को दी थी। अगला लाइब्ररी पीरियड आने ही वाला था और उसने मुझे तब तक वह किताब लौटाई नहीं थी। सो एक दिन मैंने उसे टोका और पूछा, ‘हमारी ‘बेगम’ कहाँ है?’

सुनते ही उसने वाक्य में छुपा अन्यार्थ पकड़ लिया और शरारत से बोली, ‘हमें क्या पता, तुम्हारी बेगम कहाँ है!’ दूसरी ने कहा, ‘अरे, तुमने कब शादी कर ली? अपनी बेगम से मिलवाया भी नहीं!’ मैं झेंपी-सी मुस्कान के साथ चुप रहा। सच कहने की हिम्मत नहीं थी कि हम तो तुम्हें ही अपनी बेगम बनाना चाहते हैं।*

ख़ैर, आशिक़ी के उस ज़माने की यादों से निकलकर वापस अपनी क्लास में आएँ। इस क़िस्से से आपने समझ लिया होगा कि चूँकि उस किताब का शीर्षक ‘बेगम’ था, इसलिए उसके अकारांत होने के बावजूद मैंने उसका स्त्रीलिंग के रूप में इस्तेमाल किया था – हमारी ‘बेगम’। अगर मैंने हमारा ‘बेगम’ कहा होता तो सोचिए, कितना अटपटा लगता!

इसलिए ‘आकारांत और ईकारांत हो तो स्त्रीलिंग तथा बाक़ी मामलों में पुल्लिंग’ का नियम अपनाते समय यह भी ध्यान में रखना होगा कि यदि शीर्षक में आए शब्द का लिंग कुछ और हो तो यह नियम लागू नहीं होगा।

इस नियम की व्यावहारिकता के बारे में आप कुछ कहना या जोड़ना-घटाना चाहें तो स्वागत है।

* ऊपर मैंने स्कूल के संवादों में ‘मैं’ और ‘मेरी’ की जगह ‘हम’ और ‘हमारी’ का प्रयोग किया है क्योंकि कोलकाता में ऐसे ही बोला जाता है। मैं भी तब एकवचन में ‘मैं’ को ‘हम’ ही बोला करता था। यह तो दिल्ली आकर ‘मैं’ और ‘मेरा’ बोलना और लिखना सीखा।

(Visited 424 times, 1 visits today)
पसंद आया हो तो हमें फ़ॉलो और शेयर करें

One reply on “27. क्या आपने वाल्मीकि रामायण पढ़ा है…पढ़ी है?”

अपनी टिप्पणी लिखें

Your email address will not be published.

Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial