Categories
इंग्लिश क्लास

EC28: लखनऊ का ‘ख’, ढाका का ‘ढ’ क्यों खा गए अंग्रेज़?

उत्तर प्रदेश की राजधानी का नाम है लखनऊ लेकिन अंग्रेज़ी में उसे लिखते हैं Luck.now (लकनाउ)। कभी सोचा है कि ऐसा क्यों है? वे इसे Lakh.nau भी लिख सकते थे। लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। यही काम ढाका के साथ किया। अच्छा-भला नाम है ढाका और उसकी स्पेलिंग कर दी — Dac.ca। ऐसा लगता है कि इस शहर में हर समय डाका ही पड़ता रहता है। मेरठ के साथ भी यही सलूक। लिख सकते थे May.ruth लेकिन स्पेलिंग कर दी Mee.rut। आख़िर ऐसा क्यों? अंग्रेज़ों को क्या समस्या थी ख, ढ और ठ जैसी ध्वनियों से, जानने के लिए आगे पढ़ें।

लखनऊ, ढाका, मेरठ आदि शहरों के नामों की ऐसी अटपटी स्पेलिंग का कारण यह नहीं कि अंग्रेज़ों की समझ में कोई कमी थी। कारण यह था कि उनकी भाषा में ये ध्वनियाँ – ख, ढ या ठ हैं ही नहीं और वे चाहकर भी ये ध्वनियाँ बोल नहीं सकते। फिर उन्होंने वही ध्वनि ली जो उनके मुताबिक़ इनके सबसे क़रीब बैठती थी (यानी इनके अल्पुप्राण रूप) और उस ध्वनि को व्यक्त करने वाला लेटर वहाँ चिपका दिया। लखनऊ में ख के बदले क (ck) का इस्तेमाल किया, ढाका में ढ के बदले ड (d) का इस्तेमाल किया और मेरठ में ठ के बदले ट (t)  का इस्तेमाल किया। आपने ध्यान दिया होगा कि ये सब हिंदी की महाप्राण ध्वनियों के अल्पप्राण रूप हैं – ख>क, ठ>ट, ढ>ड।

हिंदी में भी ऐसी समस्या आती है। जैसे इंग्लिश के Tel.e.vi.sion में s की श्ज़ (zh) जैसी जो ध्वनि है,  उसके लिए हिंदी में कोई वर्ण नहीं है। उसकी जगह हमें ज या ज़ से काम चलाना पड़ता है।

ख, ठ और ढ के अलावा और भी कुछ ध्वनियाँ हैं हिंदी की जो इंग्लिश में नहीं हैं। भ के बारे में हम क्लास 19 में जान चुके हैं। बाक़ी ध्वनियाँ हैं — घ, छ, झ और ध। इसी कारण इस कॉम्बिनेशन के शब्द भी इंग्लिश में बहुत कम हैं। लेकिन जो थोड़े-बहुत हैं भी तो उनका उच्चारण इस तरह होगा।

संयुक्त वर्णग़लत उच्चारणसही उच्चारण
Kh
Gh
Chh
Jh
Thथ, द या ट
Rhड़ या र्+ह
Dhध या ढ
Bh

वैसे Ch (च), Th (थ और द), Ph (फ़), Rh (र) और Sh (श) के अलावा बाक़ी कॉम्बिनेशन वाले शब्द आपको इंग्लिश में बहुत कम मिलेंगे। जो मिलेंगे, वे विदेश से आए होंगे या विदेशी नाम होंगे। आप Oxford Dictionary में Kh खोजकर देखिए — आपको पहला शब्द मिलेगा Kha.bar और आख़िरी शब्द मिलेगा Khy.ber। दोनों के अंग्रेज़ी उच्चारण कबर और कैबर हैं। लेकिन क्या हमें इन्हें कबर और कैबर बोलना चाहिए? नहीं। चूँकि ये विदेशी शब्द हैं और इनके मूल उच्चारण में ख़ है, इसलिए मेरे विचार से हमें इंग्लिश में बोलते हुए भी इसे ख़बर और ख़ैबर ही बोलना चाहिए। इसी तरह वे भले ही Shah RuKh KHan को शारु कान बोलें, हमें उन्हें शाहरुख़ ख़ान ही बोलना चाहिए।

यह तो था मामला अंग्रेज़ी में आए विदेशी शब्दों का। लेकिन जो अंग्रेज़ी के अपने शब्द हैं, उनमें हमें यह छूट नहीं लेनी चाहिए।

चलिए, अब आते हैं Gh और Th पर। चूँकि अंग्रेज़ी में घ का उच्चारण नहीं है तो अब Ghost का उच्चारण बताइए। आपने सही कहा — गोस्ट न कि घोस्ट। इसी तरह ब्रिटिश राजमहल Buck.ing.ham Pal.ace को क्या बोलेंगे? जी हाँ, बकिंगम पैलिस। बिल्कुल सही।

Th का मामला थोड़ा आसान है। यहाँ या तो थ का उच्चारण होगा या द का (इसके बारे में आगे T वाली क्लास में बात की है)। लेकिन एक उच्चारण ट भी है और उसी पर यहाँ चर्चा करते हैं। जैसे Thom.as ( जिसका मतलब है जुड़वाँ) और उससे निकलकर जितने भी शब्द या नाम बने हैं, उनका उच्चारण होता ट है न कि थ — यानी h साइलंट रहेगा। Thom.as को भी थॉमस नहीं, टॉमस बोला जाएगा। इसी कारण Thom.as नाम के किसी व्यक्ति के पुकार का नाम Tom होता है। Thom.son का भी सही उच्चारण टॉमसन या टामसनus होगा। लंदन की मशहूर नदी Thames को बोलेंगे टेम्ज़ न कि थेम्स। 

ऐसे ही कुछ और शब्दों की लिस्ट दे रहा हूँ।

शब्दअर्थउच्चारण
Ad hocतदर्थ, थोड़े समय के लिएऐड हॉक/ऐड हाकus
A.ghastभय से चकितअगास्ट
Yogh.urtदहीयॉगट/योगर्टus
Not.ting.hamइंग्लंड का एक शहरनॉटिंगम

इस क्लास का सबक़

हिंदी की बहुत सारी ध्वनियाँ इंग्लिश में नहीं हैं। जैसे ख, घ, छ, झ, ठ, ढ, ध, भ। हम ऐसी ध्वनियों वाले भारतीय शब्दों को इंग्लिश में लिखने के लिए हम H का सहारा लेते हैं। जैसे ख लिखने के लिए Kh, घ लिखने के लिए Gh, झ लिखने के लिए Jh आदि। जब तक वे भारतीय शब्द हैं, तब तक तो ऐसा करना ठीक है मगर यदि वे ब्रिटिश शब्द हैं तो उनका उच्चारण वैसे ही होगा जैसे कि उन शब्दों में H है ही नहीं। जैसे घोष के लिए Ghosh लिखना ठीक है मगर Buck.ing.ham को बकिंगम ही बोलना होगा। इसी तरह Ghost का उच्चारण गोस्ट होगा, घोस्ट नहीं।

अभ्यास

इस लिंक पर जाकर आप kh वाले शब्द खोजिए और उनके उच्चारण का अंदाज़ा लगाइए। इसी तरह gh, chh, jh, dh और bh वाले शब्दों की लिस्ट खोजिए। आपको पता चल जाएगा कि ऐसा शब्द कितने कम हैं इंग्लिश में और जो हैं, वे विदेशी हैं।

(Visited 59 times, 1 visits today)
पसंद आया हो तो हमें फ़ॉलो और शेयर करें

अपनी टिप्पणी लिखें

Your email address will not be published.

Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial