Categories
हिंदी क्लास

क्लास 9 – यह ‘ये’ हुआ, कैसे हुआ, कब हुआ, क्यों हुआ?

हिंदी में ‘यह’ और ‘ये’ का कहाँ इस्तेमाल करना है, इसपर बहुत भ्रम है। आज की क्लास में हम इसी के बारे में बात करेंगे कि कहाँ ‘यह’ और ‘वह’ का इस्तेमाल करना चाहिए और कहाँ ‘वह’ और ‘वे’ का।

ये ज़िंदगी उसी की है, जो किसी का हो गया, प्यार ही में खो गया…फ़िल्म ‘अनारकली’ का यह गाना मुझे बेहद पसंद है। लेकिन मैं यहाँ इस गाने के बोल, भाव और सुर पर बात नहीं करने जा रहा। मैं आपसे केवल ‘यह’ जानना चाहता हूँ कि गाने की इस पहली लाइन में क्या आपको कोई भाषाई ग़लती नज़र आ रही है?

नहीं नज़र आई। चलिए, एक क्लू देता हूं। जवाब ऊपर सवाल में ही है और अगर आप ध्यान से सवाल को देखेंगे तो ग़लती पकड़ लेंगे।

जिन्होंने ग़लती पकड़ ली, उनको शाबाशी देता हूं। जिन्होंने नहीं पकड़ी, उनको भी कोई दोष नहीं देता क्योंकि यह एक ऐसी ग़लती है जो करोड़ों लोग रोज़ कर रहे हैं, बल्कि अब तो उसे ग़लती माना भी नहीं जाता। लेकिन चूँकि हम लेखन के क्षेत्र में हैं, इसलिए यह ज़रूरी है कि हम तो कम-से-कम यह ग़लती न करें।

अरे, अब भी नहीं समझे! मेरे भाइयो-बहनो, यह ग़लती ‘ये’ की है। यानी यह को ये लिखा गया है। होना चाहिए था – यह ज़िंदगी उसी की है… लिखा है – ये ज़िंदगी उसी की है…

आपमें से कई बंधुओं को मालूम ही नहीं होगा कि यह और ये में कोई अंतर भी है क्योंकि अधिकतर लोग बातचीत में ये का ही प्रयोग करते हैं — ये क्या कर रहे हो, ये तो बहुत ही आसान है आदि-आदि। मेरे जैसे कुछ लोग यह का भी इस्तेमाल करते हैं – यह तो ठीक बात नहीं है, यह मेरा छोटा बेटा है आदि-आदि।

इसी तरह वह, वो और वे हैं। बहुत कम लोग वह का इस्तेमाल करता है, अधिकतर वो और वे का प्रयोग करते हैं – बोलने में भी और लिखने में भी। तो सही क्या है और क्यों है, आज की क्लास इसी पर।

यह और वह क्या हैं?

पहले तो हम यह जान लें कि यह और वह क्या हैं? ये सर्वनाम हैं जो अलग-अलग रूपों में इस्तेमाल होते हैं। कभी किसी व्यक्ति या वस्तु की जगह पर जैसे – मेरा एक छोटा भाई है। वह स्कूल में पढ़ रहा है। यहाँ हमने दूसरे वाक्य में दोबारा छोटा भाई लिखने की जगह वह लिख दिया। इसे पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं। इसी तरह कभी किसी चीज़ पर ख़ास तौर पर इशारा करने के लिए – मुझे यह किताब चाहिए। यानी और कोई नहीं, एक ख़ास किताब ही चाहिए जिसकी तरफ़ वक्ता इशारा कर रहा है। इसे निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं।

चलिए, अब पता करते हैं कि यह या वह का इस्तेमाल कहाँ होना चाहिए और ये और वे या वो का प्रयोग कहाँ होना चाहिए। नियम बिल्कुल आसान है। एकवचन शब्दों के लिए यह और वह तथा बहुवचन शब्दों के लिए ये या वे।

उदाहरण –

  • यह एक बहुत अच्छी किताब है। ये कुछ अच्छी किताबें हैं।
  • वह मेरा सगा भाई है। वे दोनों मेरे घने दोस्त हैं।

यानी किताब एकवचन है इसलिए यह, किताबें बहुवचन हैं इसलिए ये। सगा भाई एकवचन है तो वह। दो दोस्त बहुवचन हैं तो वे।

कई लोग वह की जगह वो का इस्तेमाल भी करते हैं। जैसे वो आज नहीं आया। यह सही नहीं है। बोलचाल में भले यह चलता हो, एक फ़िल्म भी है – पति, पत्नी और वो। लेकिन हिंदी शब्दकोश में वो कोई शब्द नहीं है।

कुछ लोग अपने से बड़ों, प्रतिष्ठित और उच्चपदासीन व्यक्तियों के लिए भी यह और वह की जगह ये और वे का प्रयोग करते हैं। जैसे ये मेरे मामा हैं जो मुंबई में रहते हैं। प्रधानमंत्री आज कानपुर आए और वहाँ वे एक घंटा रहे। ऐसा इस्तेमाल व्याकरणसम्मत है। चूँकि ऐसे मामलों में शब्द एकवचन (मामा, प्रधानमत्री) होने के बावजूद क्रिया बहुवचन वाली ही होती है ( हैं, रहे) इसलिए यह सुनने में भी नहीं अखरता।

लेकिन एकरूपता की दृष्टि से यदि हम हर एकवचन वाले मामले में यह और वह का इस्तेमाल करें तो भ्रम की स्थिति कम बनेगी। इसलिए लिखें – यह मेरे मामा हैं जो मुंबई में रहते हैं। प्रधानमंत्री आज कानपुर आए जहाँ वह एक घंटा रहे।

तो निष्कर्ष क्या निकला?

ऊपर की चर्चा के बाद हम सारी बातों को तीन नियमों में समेट सकते हैं।

  1. एकवचन शब्दों में सामान्यतः यह और वह का प्रयोग। यह फ़ाइल, वह मकान आदि।
  2. बहुवचन शब्दों में ये और वे का प्रयोग। ये फ़ाइलें, वे मकान आदि।
  3. उम्र, पद और प्रतिष्ठा के मामलों में ये और वे का इस्तेमाल हो सकता है। उदा. मेरे चाचा पिछले सप्ताह दिल्ली आए थे। वे मेरे घर पर दो दिन ठहरे। भाइयो और बहनो, इस बार के चुनाव में तोताराम जी को ही वोट दें। ये हमारी पार्टी के कर्मठ कार्यकर्ता हैं। लेकिन एकरूपता की दृष्टि से इन मामलों में भी यह और वह का ही इस्तेमाल करना चाहिए। उदा. मेरे चाचा पिछले सप्ताह दिल्ली आए थे। वह मेरे घर पर दो दिन ठहरे। भाइयो और बहनो, इस बार के चुनाव में तोताराम जी को ही वोट दें। यह हमारी पार्टी के कर्मठ कार्यकर्ता हैं।

अब जब यह क्लास पूरी हो चुकी है और आप यह और ये का अंतर समझ गए होंगे, फिर भी मैं आपसे आग्रह करूँगा कि यह क्लास एक बार फिर से पढ़िए, यह देखने के लिए कि मैंने कहाँ-कहाँ इस क्लास में उदाहरणों के अलावा यह और ये का इस्तेमाल किया है। जैसे यह गाना…, ये सर्वनाम…। इनसे इस क्लास का सबक़ आपको पक्के तौर पर तरह याद हो जाएगा। आप यह करेंगे ना?

इस क्लास के बारे में या हिंदी को लेकर कोई सुझाव या सवाल हो तो नीचे कॉमेंट में लिख सकते हैं या मुझे मेल कर सकते हैं – aalimsir@gmail.com के पते पर।

(Visited 27 times, 1 visits today)
पसंद आया हो तो हमें फ़ॉलो और शेयर करें

अपनी टिप्पणी लिखें

Your email address will not be published.

Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial