Categories
आलिम सर की हिंदी क्लास शब्द पहेली

155. Apple का मतलब सेव या सेब?

Apple नाम के फल से हम सभी परिचित हैं लेकिन इसे हिंदी में क्या कहेंगे – सेव या सेब? जब मैंने फ़ेसबुक पर यह सवाल किया तो 89% के भारी बहुमत ने दूसरे विकल्प के पक्ष में वोट दिया यानी सेब। 11% के अनुसार सही है सेव। नीचे हम तय करेंगे कि सही उत्तर क्या है।

हिंदी के शब्दकोशों के अनुसार सही है सेब। हिंदी शब्दसागर के अनुसार यह फ़ारसी से आया है। साथ ही लिखा है कि यह पेड़ पश्चिम का है; पर बहुत दिनों से भारतवर्ष में भी कश्मीर, कुमाऊँ, गढ़वाल, काँगड़ा और पंजाब आदि में लगाया जाता है… (देखें चित्र)।

हिंदी शब्दसागर में सेब।

यानी यह फल विदेशी है। जब विदेशी है तो इसके लिए भारतीय भाषाओं में अलग से कोई शब्द खोजना नादानी है। फिर भी मैंने संस्कृत के कोशों को तलाशा तो वहाँ आप्टे के कोश में Apple के अर्थ में मुझे सेवि और सेवितम् मिले (देखें चित्र)।

आप्टे के संस्कृत-अंग्रेज़ी कोश में सेवि और सेवितम्।

इसी तरह मॉनियर विलियम्ज़ के कोश में Apple के लिए कश्मीरफल और सेवफल भी दिए हुए हैं। तो क्या इसका अर्थ यह लगाया जाए कि यह फल विदेशी नहीं, स्वदेशी है?

मेरे ख़्याल से नहीं। हुआ यह होगा कि जब यह फल भारत में आया तो उसके लिए संस्कृत में सेब से मिलता-जुलता शब्द (सेवि/सेवितम/सेवफल) अपना लिया गया या कश्मीरफल के रूप में नया नाम दे दिया गया। जैसे Hospital विदेशी शब्द है लेकिन हिंदी में अस्पताल के रूप में उसे अपना लिया गया। अब अगर अस्पताल हिंदी के कोशों में हो तो यह नहीं कहा जा सकता कि अस्पताल हिंदी का मूल शब्द है।

हिंदी शब्दसागर भी बताता है कि भावप्रकाश (सन 1500-1600) के अतिरिक्त किसी अन्य प्राचीन ग्रंथ में सेब का उल्लेख नहीं मिलता । आयुर्वेदिक ग्रंथ भावप्रकाश में इसके लिए सिंचितिका शब्द भी दिया हुआ है।

अब प्रश्न केवल इतना है कि हिंदी का सेब फ़ारसी के सेब से आया या संस्कृत के सेवि से। फ़ारसी से आया तो सेब सही है, संस्कृत से आया तो सेव सही है।

आज और कुछ कहने को है नहीं। हाँ, Apple शब्द के उच्चारण पर भारत में बहुत भ्रम है। अधिकतर लोग इसे एप्पल बोलते हैं मगर इसका सही उच्चारण है – ऐपल। दरअसल अंग्रेज़ी में एक ही लेटर जब दो बार आता है तो उसका सिंगल उच्चारण होता है, डबल नहीं। इसी नियम के तहत इसे ऐपल बोलेंगे, एप्पल नहीं। इस नियम और दूसरे उदाहरणों (जैसे Hammer=हैमर, Bottle=बॉटल) के बारे में विस्तार से जानना हो तो यह क्लास पढ़ सकते हैं – A से एप्पल यानी शुरुआत ही ग़लत

(Visited 58 times, 1 visits today)
पसंद आया हो तो हमें फ़ॉलो और शेयर करें

अपनी टिप्पणी लिखें

Your email address will not be published.

Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial